Section 19 Hindu Marriage Act - Court to which petition shall be presented

Hindu Marriage Act(HMA) Section 19

Description of Hindu Marriage Act(HMA) Section 19

Every petition under this Act shall be presented to the District Court within the local limits of whose ordinary original civil jurisdiction:—

(i) the marriage was solemnized, or

(ii) the respondent, at the time of the presentation of the petition, resides, or

(iii) the parties to the marriage last resided together, or 2

(iii a) in case the wife is the petitioner, wher she is residing on the date of presentation of the petition;

(iv) the petitioner is residing at the time of the presentation of the petition, in a case where the respondent is at that time, residing outside the territories to which this Act extends, or has not been heard of as being alive for a period of seven years or more by those persons who would naturally have heard of him if he were alive.

हिन्दू विवाह अधिनियम की धारा 19 क्या है

वह न्यायालय जिसमें अर्जी उपस्थापित की जायेगी
विवरण

इस अधिनियम के अधीन हर अजीं उस जिला न्यायालय के समक्ष उपस्थापित की जायेगी जिसकी साधारण आरम्भिक सिविल अधिकारिता की स्थानीय सीमाओं के अन्दर -

(i) विवाह का अनुष्ठापन हुआ था; या

(ii) प्रत्यर्थी, अर्जी के उपस्थापन के समय, निवास करता है; या

(iii) विवाह के पक्षकारों ने अंतिम बार एक साथ निवास किया था, या

(iii-क) पत्नी के अर्जीदार होने की दशा में, याचिका प्रस्तुत करने वाले दिनांक को, जहाँ वह निवास कर रही है; या

(iv) अर्जीदार के अर्जी पेश किए जाने के समय निवास कर रहा है, यह ऐसे मामले में, जिसमें प्रत्यर्थी उस समय ऐसे राज्यक्षेत्र के बाहर निवास कर रहा है जिस पर इस अधिनियम का विस्तार है। अथवा वह जीवित है या नहीं इसके बारे में सात वर्ष या उससे अधिक की कालावधि के । भीतर उन्होंने कुछ नहीं सुना है, जिन्होंने उसके बारे में, यदि वह जीवित होता तो, स्वाभाविकतया सुना होता।

Prev Next